Breaking News :

दरभंगा से इन शहरों के लिए इंडिगो भरेगी उड़ान, अब यात्री किराया होगा कम

नए साल में SpiceJet का शानदार ऑफर, सिर्फ 899 रुपये में करें हवाई यात्रा

मधुबनी में लड़की के साथ रेप कर फोड़ दी आंखें, आरोपी गिरफ्तार

नगर निगम को लेकर राघोपुर बलाट पंचायत के दो पूर्व मुखिया आमने-सामने

प्रशांत किशोर ने बंगाल में बीजेपी को दी चुनौती, कहा-ऐसा हुआ तो छोड़ देंगे अपना काम

प्रधानमंत्री कल करेंगे ‘अलीगढ़ मुस्लिम विश्‍वविद्यालय के शताब्दी समारोह’ को संबोधित

भारत में कोविड के मामलों में तेज़ी से गिरावट, संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या तीन लाख पांच हजार

किसान आंदोलन को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कही बड़ी बात

दरभंगा एयरपोर्ट को एक और सौगात, इन शहरों के लिए मिलेगी सीधी उड़ान

पहले चरण के चुनाव के लिए JDU और BJP के सीटों की आधिकारिक घोषणा आज

15-Jan-2021

सूर्य ग्रहण: 25 साल बाद बन रहा है अद्भुत संयोग, इन बातों का रखें ध्यान


21 जून को सूर्यग्रहण लगने जा रहा है। ऐसे में धार्मिक दृष्टि से यह सूर्य ग्रहण महत्वपूर्ण होगा। 21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण वलयाकार होगा। वलयाकार उस स्थिति को कहते हैं जब चंद्रमा पूरी तरह से सूर्य को नही ढक पाएगा। मतलब चंद्रमा, सूर्य को इस प्रकार से ढकता है, कि सूर्य का केवल मध्य भाग ही छाया क्षेत्र में आता है और पृथ्वी से देखने पर चन्द्रमा द्वारा सूर्य पूरी तरह ढका दिखाई नहीं देता बल्कि सूर्य के बाहर का क्षेत्र प्रकाशित होने के कारण कंगन या वलय के रूप में चमकता दिखाई देता है।

यह ग्रहण इस साल का सबसे बड़ा सूर्यग्रहण बताया जा रहा है और यह सुबह 9 बजकर 15 मिनट और 58 सेकंड पर शुरू होगा और दोपहर 2 बजकर 58 मिनट पर समाप्‍त होगा। ग्रहण लगने से 12 घंटे पूर्व सूतक काल आरंभ हो जाता है और सूतक शुरू होते ही शुभ कार्य करने की मनाही होती है और साथ ही पूजापाठ के कार्य भी बंद कर दिए जाते हैं। इस दौरान मंदिर के कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं और मूर्ति को छूने पर भी पाबंदी होती है।

21 जून को होने वाले सूर्य ग्रहण का दून समेत देशभर में असर देखने को मिलेगा। दोपहर में ही अंधेरा छाने का अनुमान है। इस तरह का सूर्य ग्रहण 1995 के बाद पहली बार पड़ रहा है। रविवार को सूर्य ग्रहण सुबह करीब 10:20 बजे शुरू होगा और दोपहर 1:49 बजे खत्म होगा। इसका सूतक 12 घंटे पहले यानी 20 जून को रात 10:20 पर शुरू हो जाएगा जो ग्रहण के साथ ही खत्म होगा। ये ग्रहण भारत, नेपाल, पाकिस्तान, सऊदी अरब, यूएई, इथिपिया और कांगो में दिखाई देगा।

सूर्यग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। पेट पर चावल का लेप लगाए। ग्रहण के दौरान कुछ न खायें व बचा खाना जो ग्रहण काल में रखा हो, उसका इस्तेमाल न करें। भारत में ग्रहण काल को अशुभ माना जाता है, इस दौरान किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाता।