Breaking News :

पहले चरण के चुनाव के लिए JDU और BJP के सीटों की आधिकारिक घोषणा आज

नीतीश कुमार का राजनीतिक करियर समाप्त करना चाहती है BJP, ऐसे जानें समीकरण

सुशांत केस: AIIMS की रिपोर्ट पर मची हायतौबा, मुंबई पुलिस कमिश्‍नर ने द‍िया बड़ा बयान

53 किलोग्राम की मछली ने बनाया लखपति, बुजुर्ग महिला की रातोंरात खुली किस्‍मत

IPL 2020 पर सट्टेबाजों का साया, इस खिलाड़ी को मिला ऑफर तो BCCI ने शुरू की जांच

सलमान खान ने पूछा कब होगी मेरी शादी, ज्योतिषी ने दिया ऐसा जवाब…

BJP-JDU में सीट शेयरिंग को लेकर बन गई सहमति, चिराग को लेकर अभी भी खींचातानी

तबीयत बिगड़ने के बाद रामविलास पासवान के दिल का हुआ ऑपरेशन

सीट बटवारा होते ही टूट गया महागठबंधन, कांग्रेस ने माना तेजस्वी का लोहा

पिछले 10 वित्त वर्षों में 11 गुणा बढ़ा कृषि बजट, नए कृषि सुधारों से होगा लाभ

3-Dec-2020

26 साल का काम 6 साल में हुआ पूरा, लेह-लद्दाख की लाइफ लाइन बनेगी ‘अटल टनल’


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 'अटल सुरंग' देश को समर्पित कर दिया। हिमालय की दुर्गम वादियों में पहाड़ काटकर बनाई गई यह सुरंग समुद्रतल से 3,060 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस सुरंग के खुल जाने से हिमाचल प्रदेश के कई ऐसे इलाके जो सर्दियों में बर्फबारी के चलते बाकी देश से कट जाते थे, वे पूरे साल संपर्क में रहेंगे। मनाली और लेह की दूरी भी इससे खासी कम हो जाएगी। अभी रोहतांग पास के जरिए मनाली से लेह जाने में 474 किलोमीटर का सफर तय करना होता है।

इससे पहले यह घाटी भारी बर्फबारी के कारण लगभग छह महीने तक संपर्क से कटी रहती थी। मगर अब हर मौसम में सफर जारी रहेगा। इस सुरंग से मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो जाएगी और यात्रा का समय भी चार से पांच घंटे कम हो जाएगा। उद्घाटन के बाद अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है और आज सिर्फ अटल जी का ही सपना पूरा नहीं हुआ, बल्कि आज हिमाचल प्रदेश के करोड़ों लोगों का दशकों पुराना इंतजार खत्म हुआ है।

सुरंग बनने से पूरे भारत में अब यहां के लोग व्यापार कर पाएंगे। सामरिक दृष्टि से भी टनल बहुत महत्वपूर्ण है। राजनाथ सिंह ने कहा कि यह टनल भारत माता के मुकुट का अनमोल रत्न है। पड़ोसी देश चीन की सीमा पर हमारे सेना के जवान हैं। सीमा पर रहने वाले लाहौल के लोग भी प्रहरी हैं। सीमा पर रहने वाले लोगों के लिए यहां के लोग सामरिक संपत्ति हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने सिस्सू में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि लाहौल में पर्यटन की अपार संभावनाए हैं।

टनल खुल जाते से 46 किलोमीटर कम हो जाएगी मनाली और लेह के बीच दूरी। लाहौल स्पीति और लेह-लद्दाख के बीच हर मौसम में आवागमन सुचारू होगा। हर 60 मीटर पर एक अग्नि शामक तथा हर 150 मीटर पर टेलीफोन उपलब्ध होगा। हर 250 मीटर पर सीसीटीवी कैमरे, प्रसारण प्रणाली, हादसों का स्वत: पता लगाने की प्रणाली, हर 500 मीटर पर आपातकालीन निकास सुविधा और हर एक किलोमीटर में हवा की गुणवत्ता निगरानी होगी इसके अलावा हर 2.2 किलोमीटर की दूरी पर मोड़ है। आपको बता दें कि यह 10.5-मीटर चौड़ी सिंगल ट्यूब बाय-लेन टनल है।

देश-दुनिया