Breaking News :

रामविलास पासवान: सुर्ख़ियों के बावजूद ठौर की तलाश

बिहार में पटना सहित छह जिले फिर से लॉक, लगी हैं ये पाबंदियां

सौरव गांगुली ने किया एशिया कप रद्द करने का ऐलान तो पीसीबी ने कहा…

कांग्रेस का मास्टर प्लान, 243 सीटों पर सर्वे कराने के बाद लेगी ये निर्णय

नेपाल ने अब सीतामढ़ी में रोका भारत का सड़क निर्माण कार्य

नेपाल की नादानी! बिहार सीमा के पास नो मेंस लैंड पर बने पुल पर लगाया बोर्ड

बिहार में मास्क पर चढ़ा चुनावी रंग, राजनीतिक सुरक्षा के लिए होगी जंग

फजीहत के बाद नीतीश कुमार के आवास में नहीं खुलेगा कोविड-19 हॉस्पिटल

दरभंगा एयरपोर्ट से अब अक्टूबर में नहीं उड़ेगी विमान, एक और तारीख की हुई घोषणा

कोरोना पर भारी पड़ी आस्‍था, दीवार फांदकर बाबा के दर्शन को पहुंचे भक्त

10-Jul-2020

बिहार चुनाव से पहले गन फैक्ट्री का खुलासा, चुनाव में इस्तेमाल के लिए बन रहे थे हथियार


बिहार चुनाव से पहले पुलिस ने एक बड़ी छापेमारी कर अवैध गन फैक्ट्री का खुलासकर सबको चौंका दिया है। बिहार में कुछ ही दिनों में चुनाव है और ऐसे में इस तरह के गन फैक्ट्री का खुलासा सरकार को चिंता में डालने के लिए काफी है। बता दें कि मुजफ्फरपुर और वैशाली जिला के सीमा पर में मिनी मुंगेर के तर्ज पर चल रही हथियार फैक्ट्री का उद्भेदन किया गया। मुजफ्फरपुर एवं एसटीएफ पुलिस के द्वारा विशेष कार्रवाई की गई हैं।

इसी कड़ी में आज अहले सुबह मुजफ्फरपुर जिला के वरीय पुलिस अधीक्षक जयंत कांत के दिशा निर्देश पर सिटी एसपी नीरज कुमार सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम ने एसटीएफ और वैशाली पुलिस के साथ संयुक्त कर्रवाई करते हुए कटहरा क्षेत्र में एक गन फैक्ट्री में छापेमारी की। जहाँ हथियारों का जखीरा देख पुलिस के भी होश उड़ गए।

पुलिस के मुताबिक अवैध हथियार के फैक्ट्री संचालन में मुंगेर कनेक्शन भी उजागर हुआ है।  छापेमारी के दौरान पुलिस ने मौके से 7 अपराधियों को गिरफ्तार किया है जिसमें चार लोग मुंगेर के रहने वाले हैं जबकि तीन वैशाली के रहने वाले है। पुलिस छापेमारी में गिरफ्तार मोहम्मद लड्डन, मोहम्मद ललन, मोहम्मद परवेज और मोहम्मद अफरोज मुंगेर के रहने वाले हैं जबकि साहेब राज सर्फे आलम और आसिफ रजा वैशाली के रहने वाले हैं।

दैनिक भास्कर अखबार के अनुसार पूछताछ से पता चला कि इस फैक्ट्री में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पिस्टल व अन्य हथियार बनाए जा रहे थे। पूरे उत्तर बिहार के अपराधियों को यहां से बने हथियार सप्लाई किए जा रहे थे। चपैठ गांव में हेवी लेथ मशीन लगा हथियार बनाने का कारखाना चल रहा था।