Breaking News :

रामविलास पासवान: सुर्ख़ियों के बावजूद ठौर की तलाश

बिहार में पटना सहित छह जिले फिर से लॉक, लगी हैं ये पाबंदियां

सौरव गांगुली ने किया एशिया कप रद्द करने का ऐलान तो पीसीबी ने कहा…

कांग्रेस का मास्टर प्लान, 243 सीटों पर सर्वे कराने के बाद लेगी ये निर्णय

नेपाल ने अब सीतामढ़ी में रोका भारत का सड़क निर्माण कार्य

नेपाल की नादानी! बिहार सीमा के पास नो मेंस लैंड पर बने पुल पर लगाया बोर्ड

बिहार में मास्क पर चढ़ा चुनावी रंग, राजनीतिक सुरक्षा के लिए होगी जंग

फजीहत के बाद नीतीश कुमार के आवास में नहीं खुलेगा कोविड-19 हॉस्पिटल

दरभंगा एयरपोर्ट से अब अक्टूबर में नहीं उड़ेगी विमान, एक और तारीख की हुई घोषणा

कोरोना पर भारी पड़ी आस्‍था, दीवार फांदकर बाबा के दर्शन को पहुंचे भक्त

10-Jul-2020

खुदाई के दौरान अचानक मिट्टी के अंदर से निकला ऐतिहासिक शिव मंदिर


नदी किनारे बने टीले से रेत की खुदाई चल रही थी कि तभी वहां मौजूद लोग आश्चर्यचकित हो गए। सामने रेत में दबा एक विशालकाय मंदिर नजर आया जो कई साल पुराना बताया जा रहा है। यह मंदिर आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में मंगलवार को निकला है। नेल्लोर जिले के पेरुमल्लपाडु गांव में पेन्ना नदी के किनारे यह मंदिर निकला है।

स्थानीय लोगों का दावा है कि ये मंदिर 200 साल पुराना है। लोगों का कहना है कि भगवान परशुराम ने 101 मंदिर बनवाये थे। उन्हीं में से एक मंदिर का निर्माण पेन्ना नदी के किनारे किया गया था। फिलहाल इस मंदिर की पुरी जानकारी इकट्ठा की जा रही है।

पुरातत्व विभाग के सहायक निदेशक रामसुब्बा रेड्डी ने बताया कि पेन्ना नदी अपना रास्ता बदलती रहती है। ऐसे में हो सकता है कि ये मंदिर पानी के अंदर डूब गया हो। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि ये मंदिर 1850 की बाढ़ में नीचे दब गया हो।

मीडिया की खबरों के अनुसार, इस मंदिर की बनावट ऐतिहासिक नागेश्वर स्वामी मंदिर जैसी प्रतीत होती है। यह माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण भगवान परशुराम ने करवाया था। अभी इस मंदिर के बारे में पुरातत्वविदों के पास कोई ठोस जवाब नहीं है। वे मौके पर जाकर डिटेल स्टडी करेंगे, तब जाकर मंदिर के सही इतिहास के बारे में जानकारी सामने आएगी।