Breaking News :

बाबरी विध्वंस पर 28 साल बाद आया फैसला, आडवाणी, जोशी, उमा भारती सहित सभी आरोपी बरी

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मेनू कार्ड जारी, रसगुल्ला 15 तो समोसा 8 रुपये का

बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: 28 साल बाद आज आएगा फैसला, आडवाणी, उमा भारती सहित 49 आरोपी

महागठबंधन में लगभग फाइनल हो गई सीट शेयरिंग, जानें RJD और कांग्रेस को मिली कितनी सीटें!

नीतीश के JDU में टिकट पाने को लेकर ‘मारामारी’, एक सीट पर 30 दावेदार

देश की पहली रैपिड रेल का FIRST LOOK जारी, 180 KM प्रतिघंटा होगी रफ्तार

लीजेंड सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का निधन, 40 हज़ार से अधिक गानों में दी अपनी आवाज

हो गया बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान, जानिए कब और कितने चरणों में होगा चुनाव

कृषि बिल के खिलाफ चक्का जाम, पंजाब में रेलवे ट्रैक पर डटे आंदोलनकारी, कई ट्रेन प्रभावित

शुरू होने से पहले ही विवादों में घिरी दरभंगा हवाई सेवा, Spice Jet ने की धोखाधड़ी

1-Oct-2020

चिराग पासवान के लगातार हमलों से जदयू परेशान, बीजेपी क्यों है चुप?


बिहार में एनडीए की सहयोगी पार्टी होते हुए भी एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान आजकल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ विरोध का झंडा लेकर खड़े हैं। शायद ही कोई ऐसा दिन जाता हो जब चिराग नीतीश कुमार और उनकी सरकार की कोई कमियां न गिनाते हों। शराबबंदी नीतीश कुमार के दिल के कितने करीब हैं, ये बात किसी से छुपी नहीं है। लेकिन अब चिराग पासवान ने नीतीश कुमार की शराबबंदी योजना पर ही सवाल खड़ा कर दिया है।

लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर एक वीडियो को लेकर निशाना साधा है। उन्होंने राज्य में शराबबंदी की सफलता को लेकर सवाल उठाया है। चिराग ने एक वीडियो का उल्लेख किया है जिसमें एक पार्षद कथित तौर पर नशे में उन्हें और उनके पिता रामविलास पासवान के लिए अपशब्द कहता हुआ दिखाई दे रहा है।

चिराग पासवान ने अपनी 'बिहार फर्स्ट-बिहारी फर्स्ट यात्रा के दौरान काफी तल्ख टिप्पणी की थी। यहां तक कह दिया था कि सूबे के अस्पतालों में कोई रहता नहीं और कुछ भी उपलब्ध नहीं। सरकार के खिलाफ हड़ताल कर रहे नियोजित शिक्षकों के समर्थन में आ गए थे। जदयू द्वारा आपत्ति जताने के बाद कुछ दिन वह शांत रहे।

प्रश्न यह है कि लगातार एनडीए के सहयोगी पार्टी जदयू पर इस तरह के बयानबाजी के बाद भी बीजेपी चुप बैठी है। चिराग पासवान पिछले कई महीनों से जदयू पर हमलावर हैं लेकिन बीजेपी शांत बैठी है। चुनाव आने वाला है और ऐसे समय में बीजेपी का शांत बैठना जदयू के भविष्य के लिए खतरा बन सकता है। जानकार यह भी कह रहे हैं कि बीजेपी नीतीश के विकल्प के रूप में चिराग को देख रही है इसलिए शांत बैठी है।

#बिहार चुनाव