Breaking News :

बाबरी विध्वंस पर 28 साल बाद आया फैसला, आडवाणी, जोशी, उमा भारती सहित सभी आरोपी बरी

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मेनू कार्ड जारी, रसगुल्ला 15 तो समोसा 8 रुपये का

बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: 28 साल बाद आज आएगा फैसला, आडवाणी, उमा भारती सहित 49 आरोपी

महागठबंधन में लगभग फाइनल हो गई सीट शेयरिंग, जानें RJD और कांग्रेस को मिली कितनी सीटें!

नीतीश के JDU में टिकट पाने को लेकर ‘मारामारी’, एक सीट पर 30 दावेदार

देश की पहली रैपिड रेल का FIRST LOOK जारी, 180 KM प्रतिघंटा होगी रफ्तार

लीजेंड सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का निधन, 40 हज़ार से अधिक गानों में दी अपनी आवाज

हो गया बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान, जानिए कब और कितने चरणों में होगा चुनाव

कृषि बिल के खिलाफ चक्का जाम, पंजाब में रेलवे ट्रैक पर डटे आंदोलनकारी, कई ट्रेन प्रभावित

शुरू होने से पहले ही विवादों में घिरी दरभंगा हवाई सेवा, Spice Jet ने की धोखाधड़ी

1-Oct-2020

कमला तटबंध टूटने का खतरा, घबराये लोग रातभर जागकर बिता रहे समय


लगातार भारी बर्षा के कारण उत्तर बिहार की लगभग सभी नदियां उफान पर है। लगभग हर साल बाढ़ के खतरों से झूझने वाले लोग घबराये हुए हैं। इस घबराहट से परेशान लोग रातभर जागकर बिता रहे हैं, उन्हें डर है कि कहीं नदियां का तटबंध टूट न जाए। कमला नदी का तटबंध हर साल आस-पास के लोगों के लिए परेशानी पैदा करता रहा है ऐसे में लोगों की चिंता और घबराहट जायज है।

कमला बलान नदी कि बदलती धारा से नजदीक के गांव के लोग आशंकित हो उठे हैं। इसको लेकर रविवार को लोगो ने पूर्वी तटबंध सड़क को जाम कर दिया। उनकी मांग थी कि तटबंध को तुरंत मजबूत किया जाए। पत्थर व ईंट से पार्टिशन वाल दिया जाए। एक दो जगह पर डैम का भी निर्माण होना चाहिए। इससे तटबंध पर हो रहे खतरे को कम किया जा सके।

लोगों को आज भी साल 2002, 2004 और 2019 की प्रलयंकारी बाढ़ याद है। जिसने कमला तटबंध को तोड़कर कई बस्ती को तिनके की तरह साथ बहा दिया था। हर साल बारिश के मौसम में तटबंध से रिसाव होने लगता है। लोग घर द्वार छोड़कर छोटे-छोटे बच्चे, पशु, वृद्ध और बीमार को लेकर ऊंची जगह पर शरण लेने को मजबूर हो जाते हैं। हर साल इस समस्या से झुझते लोगों को इसके स्थाई निवारण का इंतज़ार है।