Breaking News :

पहले चरण के चुनाव के लिए JDU और BJP के सीटों की आधिकारिक घोषणा आज

नीतीश कुमार का राजनीतिक करियर समाप्त करना चाहती है BJP, ऐसे जानें समीकरण

सुशांत केस: AIIMS की रिपोर्ट पर मची हायतौबा, मुंबई पुलिस कमिश्‍नर ने द‍िया बड़ा बयान

53 किलोग्राम की मछली ने बनाया लखपति, बुजुर्ग महिला की रातोंरात खुली किस्‍मत

IPL 2020 पर सट्टेबाजों का साया, इस खिलाड़ी को मिला ऑफर तो BCCI ने शुरू की जांच

सलमान खान ने पूछा कब होगी मेरी शादी, ज्योतिषी ने दिया ऐसा जवाब…

BJP-JDU में सीट शेयरिंग को लेकर बन गई सहमति, चिराग को लेकर अभी भी खींचातानी

तबीयत बिगड़ने के बाद रामविलास पासवान के दिल का हुआ ऑपरेशन

सीट बटवारा होते ही टूट गया महागठबंधन, कांग्रेस ने माना तेजस्वी का लोहा

पिछले 10 वित्त वर्षों में 11 गुणा बढ़ा कृषि बजट, नए कृषि सुधारों से होगा लाभ

3-Dec-2020

दिल्ली हाट के तर्ज पर झंझारपुर में बनेगा मिथिला हाट, CM ने किया शिलान्यास


दिल्ली हाट की तर्ज पर मधुबनी जिले के झंझारपुर प्रखंड अंतर्गत अड़रिया संग्राम में ईस्ट-वेस्ट कोरिडोर के साथ बनने वाले मिथिला हाट का मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शिलान्यास किया। स्थल पर इसका निर्माण कार्य बुधवार से शुरू करने की तैयारी है। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मिथिला से गुजरने वाले पर्यटकों के लिए यह 'मिथिला हाट' आकर्षण का एक प्रमुख केंद्र बनेगा।

मिथिला की कला-संस्कृति के संवर्द्धन में यह बड़ी भूमिका निभायेगा। इसके जरिए मिथिला के कलाकार अपने उत्पादों की सालोभर सुविधाजनक ढंग से प्रदर्शनी एवं बिक्री कर सकेंगे। जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने अपने इस ड्रीम प्रोजेक्ट के बारे में बताया कि इसमें 50 स्टॉल, कार्यालय भवन, भंडार गृह, कला-प्रदर्शनी भवन, सभागार, ओपन एरिया थिएटर, फूड स्टॉल, डोरमेटरी, पार्किंग इत्यादि की व्यवस्था होगी।

मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली हाट की तर्ज पर मिथिला हाट को विकसित किया जाएगा जहां मिथिला पेंटिंग के साथ-साथ सिक्की-मौनी, मिथिला का खान-पान सहित स्थानीय स्तर पर निर्मित वस्तुओं की बिक्री होगी। बताया जा रहा है कि यहां राहगीरों के लिए रेस्ट हाउस की भी व्यवस्था होगी। इससे स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। झंझारपुर में बनने वाला मिथिला हाट का निर्माण पूरा होने के बाद यह न सिर्फ स्थानीय स्तर पर एक टूरिस्ट-स्पॉट के रूप में विकसित होगा।

मिथिला हाट से विविधि शिल्पों के करीब 50 हजार से अधिक कलाकारों को लाभ मिलेगा। अब मिथिलांचल में रहने वाले कलाकारों को अपनी कलाकृतियां बेचने के लिए बाहर नहीं जाना होगा। कलाकार अपनी शिल्पों को सीधे तौर पर मिथिला हाट के अंदर बनी दुकानों में बेच सकेंगे। अब मिथिला पेंटिंग शिल्प में बिचौलियों से भी कलाकारों को मुक्ति मिलेगी। मिथिला पेंटिंग के अलावा सिक्की कला और अन्य शिल्पों के बाजार उपलब्ध होगा।

ख़बर मिथिला