Breaking News :

रामविलास पासवान: सुर्ख़ियों के बावजूद ठौर की तलाश

बिहार में पटना सहित छह जिले फिर से लॉक, लगी हैं ये पाबंदियां

सौरव गांगुली ने किया एशिया कप रद्द करने का ऐलान तो पीसीबी ने कहा…

कांग्रेस का मास्टर प्लान, 243 सीटों पर सर्वे कराने के बाद लेगी ये निर्णय

नेपाल ने अब सीतामढ़ी में रोका भारत का सड़क निर्माण कार्य

नेपाल की नादानी! बिहार सीमा के पास नो मेंस लैंड पर बने पुल पर लगाया बोर्ड

बिहार में मास्क पर चढ़ा चुनावी रंग, राजनीतिक सुरक्षा के लिए होगी जंग

फजीहत के बाद नीतीश कुमार के आवास में नहीं खुलेगा कोविड-19 हॉस्पिटल

दरभंगा एयरपोर्ट से अब अक्टूबर में नहीं उड़ेगी विमान, एक और तारीख की हुई घोषणा

कोरोना पर भारी पड़ी आस्‍था, दीवार फांदकर बाबा के दर्शन को पहुंचे भक्त

10-Jul-2020

59 चाइनीज Apps पर प्रतिबंध लगने से इतने हजार कर्मचारियों की जाएगी नौकरी!


भारत-चीन तनाव के बीच केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने 59 चाइनीज ऐप पर रोक लगाने का फैसला लिया है। बैन किए गए ऐप में मशहूर टिक-टॉक ऐप भी शामिल है। इसके अलावा यूसी ब्राउजर, कैम स्कैनर जैसे और भी बहुत फेमस ऐप शामिल हैं। इससे पहले भारतीय सुरक्षा एजेंसियों से चाइनीज एप की एक लिस्ट तैयार कर केंद्र सरकार से अपील की थी इनको बैन किया जाए या फिर लोगों को कहा जाए कि इनको तुरंत अपने मोबाइल से हटा दें।

सरकार की ओर से जारी आदेश के अनुसार, सरकार उन 59 मोबाइल ऐप पर बैन लगा दिया जो भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए पूर्वाग्रहपूर्ण थे। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (IT Act) की धारा 69 ए के तहत सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के प्रावधानों के तहत इसे लागू करते हुए सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने नियम 2009 और खतरों की आकस्मिक प्रकृति को देखते हुए 59 ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है।

बता दें कि इन 59 चाइनीज ऐप्स के अधिकतर कंपनियों में तो 10 से 12 लोग ही काम करते हैं, लेकिन 10 से 15 कंपनियां ऐसी हैं, जिसमें 400 से 500 लोग काम करते हैं। बंद किए गए एप्स में टिकटॉक, शेयरइट, यूसी ब्राउजर, हेलो, बिगो लाइव, से​ल्फीसिटी, मेल मास्टर, पैरेलल स्पेस जैसे ऐप्स शामिल हैं, जो भारत में काफी लोकप्रिय हैं। सरकार के इस फैसले से भारत में हजारों की संख्या मे बेरोजगारी बढ़ेगी।

भारत में टिक टॉक, शेयर चैट, वीगो इत्यादि वीडियो अप्प बहुत ही लोकप्रिय है जिससे  जरिए लाखों युवा अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित कर पैसे कमाते हैं। सरकार के इस फैसले से उन सभी को झटका लगा है। हालाँकि सरकार ने अभी तक यह स्पष्ट नहीं किया है कि यह पूर्णरूप से बैन होगा या फिर प्लेस्टोर से सिर्फ डाउनलोड बंद कर दिया जायेगा।