Breaking News :

पहले चरण के चुनाव के लिए JDU और BJP के सीटों की आधिकारिक घोषणा आज

नीतीश कुमार का राजनीतिक करियर समाप्त करना चाहती है BJP, ऐसे जानें समीकरण

सुशांत केस: AIIMS की रिपोर्ट पर मची हायतौबा, मुंबई पुलिस कमिश्‍नर ने द‍िया बड़ा बयान

53 किलोग्राम की मछली ने बनाया लखपति, बुजुर्ग महिला की रातोंरात खुली किस्‍मत

IPL 2020 पर सट्टेबाजों का साया, इस खिलाड़ी को मिला ऑफर तो BCCI ने शुरू की जांच

सलमान खान ने पूछा कब होगी मेरी शादी, ज्योतिषी ने दिया ऐसा जवाब…

BJP-JDU में सीट शेयरिंग को लेकर बन गई सहमति, चिराग को लेकर अभी भी खींचातानी

तबीयत बिगड़ने के बाद रामविलास पासवान के दिल का हुआ ऑपरेशन

सीट बटवारा होते ही टूट गया महागठबंधन, कांग्रेस ने माना तेजस्वी का लोहा

पिछले 10 वित्त वर्षों में 11 गुणा बढ़ा कृषि बजट, नए कृषि सुधारों से होगा लाभ

22-Oct-2020

कृषि बिल के खिलाफ चक्का जाम, पंजाब में रेलवे ट्रैक पर डटे आंदोलनकारी, कई ट्रेन प्रभावित


कृषि बिल के खिलाफ देशभर के किसानों ने आज भारत बंद बुलाया है। पंजाब-हरियाणा में भी किसान पिछले कई दिनों से कृषि बिल के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन समेत विभिन्न किसान संगठन इस बंद में शामिल हैं। किसान संगठनों को कांग्रेस, राजद, समाजवादी पार्टी, अकाली दल, आप, टीएमसी समेत कई राजनीतिक दलों का समर्थन मिला है।

पंजाब के किसान कल गुरुवार से ही तीन दिनों के रेल रोको आंदोलन पर हैं। वहां किसान रेलवे ट्रैक पर डटे हुए हैं और बिल को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। विभिन्न किसान संगठनों ने शुक्रवार को बिल के विरोध में देशव्यापी बंद कर रहे हैं। हरियाणा और पंजाब में बिल का सर्वाधिक विरोध किया जा रहा है। इसके अलावा अन्य कई राज्यों में भी किसान संगठनों के साथ-साथ राजनीतिक दल भी विधेयक के विरोध में सड़कों पर उतरने के लिए तैयार हैं।

कृषि विधेयकों के पास होने के विरोध में किसानों के अलग-अलग संगठनों ने शुक्रवार को 'भारत बंद' का ऐलान किया है। पंजाब के CM कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों से अपील की है कि वे किसान बिलों के खिलाफ कल के बंद के दौरान सभी कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करें। उन्होंने कहा कि विरोध प्रदर्शन के दौरान धारा 144 के उल्लंघन के लिए कोई FIR दर्ज नहीं की जाएगी।

गौरतलब है कि हाल में केंद्र सरकार ने कृषि सुधारों से संबंधित दो बिल पास किए हैं जिस पर विपक्ष हमलावर है। कांग्रेस ने पूरे देश में विरोध प्रदर्शन किया है। कुछ राज्यों में किसान भी सड़कों पर उतरे हैं। सबकी नजरें इस ओर लगी हैं कि एनडीए के गठबंधन में चल रही बिहार सरकार का इस पर क्या रुख है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ कर दिया कि किसानी से जुड़े इस मुद्दे पर वह केंद्र के फैसले के साथ हैं।

देश-दुनिया