Breaking News :

बाबरी विध्वंस पर 28 साल बाद आया फैसला, आडवाणी, जोशी, उमा भारती सहित सभी आरोपी बरी

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मेनू कार्ड जारी, रसगुल्ला 15 तो समोसा 8 रुपये का

बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: 28 साल बाद आज आएगा फैसला, आडवाणी, उमा भारती सहित 49 आरोपी

महागठबंधन में लगभग फाइनल हो गई सीट शेयरिंग, जानें RJD और कांग्रेस को मिली कितनी सीटें!

नीतीश के JDU में टिकट पाने को लेकर ‘मारामारी’, एक सीट पर 30 दावेदार

देश की पहली रैपिड रेल का FIRST LOOK जारी, 180 KM प्रतिघंटा होगी रफ्तार

लीजेंड सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का निधन, 40 हज़ार से अधिक गानों में दी अपनी आवाज

हो गया बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान, जानिए कब और कितने चरणों में होगा चुनाव

कृषि बिल के खिलाफ चक्का जाम, पंजाब में रेलवे ट्रैक पर डटे आंदोलनकारी, कई ट्रेन प्रभावित

शुरू होने से पहले ही विवादों में घिरी दरभंगा हवाई सेवा, Spice Jet ने की धोखाधड़ी

1-Oct-2020

आज राजकीय सम्मान के साथ मिथिला के लाल कुंदन को दी जाएगी विदाई


तीन दिन पहले लद्दाख के गलवान घाटी में शहीद हुए मिथिला के लाल कुंदन कुमार को शुक्रवार को सुबह नौ बजे राजकीय सम्मान के साथ विदाई दी जाएगी। जिलाधिकारी कौशल कुमार ने अंत्येष्टि स्थल पर वाटरप्रुफ पंडाल और लोगों के बैठने हेतु शारीरिक दूरी का पालन करते हुए 15 पर्याप्त मात्रा में कुर्सी लगाने, 15 पुष्पचक्र के अलावा पर्याप्त मात्रा में पुष्पमाला की व्यवस्था तथा आए हुए सेना के पदाधिकारी एवं जवानों के आवासन की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है।

कुंदन कुमार के परिवार के प्रति स्थानीय सांसद दिनेश चन्द्र यादव ने संवेदना व्यक्त किया है। सांसद ने कहा कि मृत्यु सच है, परंतु कुंदन ने मातृभूमि के लिए जो कर दिखाया, उससे सहरसा और कोसी की माटी गौरवान्वित हुई है। धन्य है वह माता- पिता जिन्होने ऐसे बहादुर बेटे को जन्म दिया। उन्होंने कहा कि कुंदन की कुर्बानी समाज और देश के हर नागरिकों को प्रेरणा देता रहेगा।

बता दें कि सोमवार की रात चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए सैनिकों में मिथिला के लाल कुंदन यादव भी शामिल हैं। कुंदन यादव सहरसा जिला के विशनपुर पंचायत अंतर्गत आरण गांव के निवासी थे। कुंदन के शहीद होने की खबर से पूरा मिथिला क्षेत्र शोकग्रस्त है।