Breaking News :

दरभंगा से इन शहरों के लिए इंडिगो भरेगी उड़ान, अब यात्री किराया होगा कम

नए साल में SpiceJet का शानदार ऑफर, सिर्फ 899 रुपये में करें हवाई यात्रा

मधुबनी में लड़की के साथ रेप कर फोड़ दी आंखें, आरोपी गिरफ्तार

नगर निगम को लेकर राघोपुर बलाट पंचायत के दो पूर्व मुखिया आमने-सामने

प्रशांत किशोर ने बंगाल में बीजेपी को दी चुनौती, कहा-ऐसा हुआ तो छोड़ देंगे अपना काम

प्रधानमंत्री कल करेंगे ‘अलीगढ़ मुस्लिम विश्‍वविद्यालय के शताब्दी समारोह’ को संबोधित

भारत में कोविड के मामलों में तेज़ी से गिरावट, संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या तीन लाख पांच हजार

किसान आंदोलन को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कही बड़ी बात

दरभंगा एयरपोर्ट को एक और सौगात, इन शहरों के लिए मिलेगी सीधी उड़ान

पहले चरण के चुनाव के लिए JDU और BJP के सीटों की आधिकारिक घोषणा आज

15-Jan-2021

कल फिर लगेगा ग्रहण, भारत में इस समय दिखेगा साल का दूसरा चंद्रग्रहण


कल यानि 5 जून शुक्रवार को इस साल का दूसरा चंद्र ग्रहण लगने वाला है। बता दें कि इससे पहले जनवरी में साल का पहला चंद्रग्रहण दिखा था। यह उपछाया ग्रहण होगा जो 5 जून की रात 11 बजकर 15 मिनट से लगना आरंभ होगा और अगले दिन रात के 2 बजकर 34 मिनट तक रहेगा। ग्रहण के दौरान चंद्रमा वृश्चिक राशि में भ्रमण करेगा। उपछाया में पूर्ण चंद्र ग्रहण नहीं होता है इसमें चंद्रमा सिर्फ धुंधला दिखाई पड़ता है इस कारण से इसको चंद्र मालिन्य भी कहा जाता हैं। इसलिए इस चंद्रग्रहण को उपछाया चंद्रग्रहण कहते हैं।

5 और 6 जून की आधी रात में लगने वाला यह चंद्रग्रहण 3 घंटे 18 मिनट का होगा। इस ग्रहण के दौरान चांद पृथ्वी की वास्तविक छाया में पहुंचने से पहले ही उपछाया से निकल आएंगे। इससे चांद का बिंब कुछ धुंधला हो जाएगा। पूरे ग्रहण के दौरान चांद कहीं से कटा हुआ नहीं दिखेगा। इसलिए इस अनोखे चंद्रग्रहण को इस रात देखना अच्छा अनुभव हो सकता है।

ग्रहण एशिया, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका के लोग देख पायेंगे। हालांकि ये उपच्छाया चंद्र ग्रहण होने के कारण सामान्य चांद और ग्रहण में अंतर कर पाना मुश्किल होगा। ग्रहण के समय चंद्रमा के आकार में कोई परिवर्तन नहीं आयेगा। बल्कि इसकी छवि कुछ मलिन हो जायेगी। यानी चांद इस दौरान मटमैला सा दिखाई देगा। ज्योतिष अनुसार उपच्छाया चंद्र ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं होता। क्योंकि इसे वास्तविक ग्रहण नहीं माना गया है।

ज्योतिष के अनुसार इस उपच्छाया चंद्र ग्रहण में चांद पर मात्र पृथ्वी की छाया पड़ेगी जिस कारण इसे ग्रहण की श्रेणी में नहीं आता है इसलिए धार्मिक और सामान्य कामकाज करने में किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं होगा। इस उपच्छाया चंद्र ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होगा। ग्रहण का किसी भी तरह का बुरा प्रभाव न पड़ने के कारण सूतककाल नहीं लगेगा। सूतक काल का समय अशुभ माना जाता है।