Breaking News :

रामविलास पासवान: सुर्ख़ियों के बावजूद ठौर की तलाश

बिहार में पटना सहित छह जिले फिर से लॉक, लगी हैं ये पाबंदियां

सौरव गांगुली ने किया एशिया कप रद्द करने का ऐलान तो पीसीबी ने कहा…

कांग्रेस का मास्टर प्लान, 243 सीटों पर सर्वे कराने के बाद लेगी ये निर्णय

नेपाल ने अब सीतामढ़ी में रोका भारत का सड़क निर्माण कार्य

नेपाल की नादानी! बिहार सीमा के पास नो मेंस लैंड पर बने पुल पर लगाया बोर्ड

बिहार में मास्क पर चढ़ा चुनावी रंग, राजनीतिक सुरक्षा के लिए होगी जंग

फजीहत के बाद नीतीश कुमार के आवास में नहीं खुलेगा कोविड-19 हॉस्पिटल

दरभंगा एयरपोर्ट से अब अक्टूबर में नहीं उड़ेगी विमान, एक और तारीख की हुई घोषणा

कोरोना पर भारी पड़ी आस्‍था, दीवार फांदकर बाबा के दर्शन को पहुंचे भक्त

10-Jul-2020

शेन वॉर्न से भी ज्यादा विकेट लेने वाले इस भारतीय क्रिकेटर का हुआ निधन


प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अपने जमाने के दिग्गज स्पिनर राजिंदर गोयल का उम्र संबंधी बीमारियों के कारण रविवार को निधन हो गया। वह 77 वर्ष के थे उनके परिवार में पत्नी और पुत्र नितिन गोयल हैं, जो स्वयं प्रथम श्रेणी क्रिकेटर रहे हैं और घरेलू मैचों के मैच रेफरी हैं। भारतीय क्रिकेट बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष रणबीर सिंह महेंद्रा ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि यह क्रिकेट के खेल और निजी तौर पर मेरी बहुत बड़ी क्षति है।

बाएं हाथ के स्पिनर रहे रजिंदर ने 27 साल के करियर में 18.58 के औसत के साथ 750 प्रथम श्रेणी विकेट लिए। उन्होंने 44 साल की उम्र तक प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला और पटियाला, दिल्ली, दक्षिणी पंजाब और हरियाणा का प्रतिनिधित्व किया। इस दिग्गज स्पिनर ने 59 बार पांच विकेट और 18 बार दस विकेट लेने का कारनामा किया था। यही नहीं रजिंदर रणजी मैचों में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे।

राजिंदर गोयल को अगर शेन वॉर्न से बेहतर कहा जाए तो वह गलत नहीं होगा, क्योंकि 750 विकेट लेना बहुत बड़ी बात है। शेन वॉर्न ने ऑस्ट्रेलिया की तरफ से टेस्ट क्रिकेट में 708 विकेट लिये थे, जबकि भारत के राजिंदर गोयल ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 750 विकेट झटके थे। राजिंदर गोयल उस युग मे खेला करते थे जब बिशन सिंह बेदी जैसे स्पिनर भारत का प्रतिनिधित्व किया करते थे। इसी दौर में एक अन्य स्पिनर मुंबई के पदमाकर शिवालकर भी खेलते थे और उन्हें भी भारत की तरफ से खेलने का मौका नहीं मिला।

राजिंदर गोयल के निधन के बाद गांगुली ने बीसीसीआई के बयान में कहा कि भारतीय क्रिकेट समुदाय ने घरेलू क्रिकेट की हस्ती को गंवा दिया। उनके शानदार रिकार्ड इसके गवाह हैं कि वह अपनी कला में कितने माहिर थे। उनका करियर 25 साल से अधिक समय तक चला और वह लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे जिससे खेल के प्रति उनके समर्पण और प्रतिबद्धता का पता चलता है।