Breaking News :

बाबरी विध्वंस पर 28 साल बाद आया फैसला, आडवाणी, जोशी, उमा भारती सहित सभी आरोपी बरी

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मेनू कार्ड जारी, रसगुल्ला 15 तो समोसा 8 रुपये का

बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: 28 साल बाद आज आएगा फैसला, आडवाणी, उमा भारती सहित 49 आरोपी

महागठबंधन में लगभग फाइनल हो गई सीट शेयरिंग, जानें RJD और कांग्रेस को मिली कितनी सीटें!

नीतीश के JDU में टिकट पाने को लेकर ‘मारामारी’, एक सीट पर 30 दावेदार

देश की पहली रैपिड रेल का FIRST LOOK जारी, 180 KM प्रतिघंटा होगी रफ्तार

लीजेंड सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का निधन, 40 हज़ार से अधिक गानों में दी अपनी आवाज

हो गया बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान, जानिए कब और कितने चरणों में होगा चुनाव

कृषि बिल के खिलाफ चक्का जाम, पंजाब में रेलवे ट्रैक पर डटे आंदोलनकारी, कई ट्रेन प्रभावित

शुरू होने से पहले ही विवादों में घिरी दरभंगा हवाई सेवा, Spice Jet ने की धोखाधड़ी

1-Oct-2020

इस पंचायत के मुखिया से लेनी होगी सीख तभी होगा गांव का विकास


सीतामढ़ी के सोनबरसा प्रखंड अंतर्गत सिंहवाहिनी पंचायत के मुखिया रितू जायसवाल ने स्थानीय स्तर पर रोजगार देने के लिए ग्रामोद्धार योजना की शुरुआत की है, जो काफी चर्चा का विषय बना हुआ है। रितू जायसवाल पंचायत के विकास के लिए अपने कामों से हमेशा सुर्ख़ियों में रहते हैं। लोगों का कहना है कि रितू जायसवाल से दूसरे पंचायत के मुखिया को सीख लेनी चाहिए। 

रितू जायसवाल का कहना है कि ग्रामोद्धार योजना के तहत गांवों के विकास के लिए संभावनाओं पर पर काम शुरू किया जा रहा है। मुखिया ने शुक्रवार को एक सादे समारोह से योजना की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि इस योजना से गांधी के सपनों को साकार करने तथा ग्रामीण उद्यमिता को पुनः परिभाषित करने का छोटा सा प्रयास है। जिसके तहत हम लोग गांव स्तर पर श्रमवीरों और उनके परिवार के सदस्यों के हुनर को पहचान देकर उनके द्वारा प्रत्येक तरह की वस्तुओं का निर्माण कराकर आगे वृहद स्तर पर बाजार उपलब्ध कराएंगे।

उन्होंने कहा कि हम इसे मुहिम बनाना चाहते हैं ताकि गांव की महिलाओं का दिन बदले। श्रमवीरों का आत्मसम्मान बढ़ेगा और हमारा गांव आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर व सशक्त बनेगा। उन्होंने कहा कि इस योजना को हम मुहीम बनाना चाहते हैं जिसकी शुरुआत हो चुकी है और इसके तहत महिलाओं ने बड़ी संख्या में मास्क बनाया है जिससे उन्हें आर्थिक लाभ मिला है। उन्होंने कहा कि बांस के कूड़ेदान तथा बांस व सिक्की के कार्य को वृहद रूप देने पर काम चल रहा है। इसके बाद खाद्य पदार्थों को लेकर भी योजनाओं पर काम शुरू है।