Breaking News :

रामविलास पासवान: सुर्ख़ियों के बावजूद ठौर की तलाश

बिहार में पटना सहित छह जिले फिर से लॉक, लगी हैं ये पाबंदियां

सौरव गांगुली ने किया एशिया कप रद्द करने का ऐलान तो पीसीबी ने कहा…

कांग्रेस का मास्टर प्लान, 243 सीटों पर सर्वे कराने के बाद लेगी ये निर्णय

नेपाल ने अब सीतामढ़ी में रोका भारत का सड़क निर्माण कार्य

नेपाल की नादानी! बिहार सीमा के पास नो मेंस लैंड पर बने पुल पर लगाया बोर्ड

बिहार में मास्क पर चढ़ा चुनावी रंग, राजनीतिक सुरक्षा के लिए होगी जंग

फजीहत के बाद नीतीश कुमार के आवास में नहीं खुलेगा कोविड-19 हॉस्पिटल

दरभंगा एयरपोर्ट से अब अक्टूबर में नहीं उड़ेगी विमान, एक और तारीख की हुई घोषणा

कोरोना पर भारी पड़ी आस्‍था, दीवार फांदकर बाबा के दर्शन को पहुंचे भक्त

10-Jul-2020

अभी इतने दिनों तक नहीं मिलेगी बारिश से निजात, टूटने वाला है इतने वर्षों का रिकॉर्ड


बिहार में पिछले कुछ दिनों से लगातार बारिश जारी है। वहीं, गुरुवार को मौसम विभाग ने बिहार के 16 जिलों में भारी बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए चेतावनी दी है कि संख्यात्मक मौसम मॉडल के आंकलन के अनुसार राज्य के कई भागों में अगले 72 घंटों के दौरान भारी बारिश और वज्रपात की संभावना है।

बता दें कि उत्तर बिहार में जून माह में बारिश के पिछले सात वर्ष का रिकार्ड टूटने के कगार पर है। अभी पांच दिन बाकी हैं और अबतक 197 एमएम औसत बारिश हो चुकी है। बताया जा रहा है कि अगले 29 जून तक भारी बारिश की सम्भावना हैं जिसमे लगभग 60 एमएम तक वर्षा हो सकती है। बता दें कि 2013 के जून में 299.3 एमएम औसत बारिश हुई थी।

मौसम विभाग ने उत्तर बिहार के पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सिवान, शिवहर, सीतामढ़ी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, सारण, मधुबनी, सुपौल, अररिया, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, किशनगंज और कटिहार में भारी बर्षा की संभावना व्यक्त की है। मौसम विभाग ने बिहार के लोगों से उचित सावधानी और सुरक्षा उपाय बरतने की सलाह दी है।

जून माह में उत्तर बिहार में 2014 में  93.2 एमएम, 2015 में 55.4 एमएम, 2016 में 105.1 एमएम, 2017 में 64.2 एमएम,  2018 में 44.4 एमएम, 2019 में 35 एमएम तथा 2020 में अब तक 197 एमएम वर्षा हो चुकी है।